Tuesday, 24 May 2016

जय जय राजस्थान

सदा न संग सहेलिया,सदा न राजा देश|
सदा न जुग मे जीवणा सदा न काळा केश||
सदा न फुले केतकी  सदा न सावण होय|
सदा न विपदा रह सके सदा न सुख भी कोय||
सदा न मौज बसंत री सदा न ग्रीसम भाण||
सदा न जोबन थिर रहे सदा न संपत माण||
सदा न कांहु की रही गळ प्रितम क बांह|
ढळता-ढळता ढळ गई तरवर की सी छांह||
       [जय जय राजस्थान ]

No comments:

Post a Comment