Tuesday, 14 June 2016

गरविलो गढ़ जाळोर

!! गरविलो गढ़ जाळोर !!

सोराष्ट्र परदेश शिवालय सोमनाथ कहावे,
चढ़ आई मुगलीया फौज जबर जद लूट मचावे !

सोमनाथ नें लूट मुगल हद हाहाकार मचावे,
शिवलिंग नें उखाङ तुरकङा संग ले जावे !

गढ़ पूग्या जाळोर कांकङ में जद डेरा लगावे,
गुप्तचर दौङ्या आय कान्हङ ने खबर सुणावे !

कर घोर घमसाण कान्हङ शिवलिंग छुङावे,
सिंग सी करी दहाङ मुगलां नें मार भगावे !

शुभ चौघङीयो देख कान्हङदे यूं फरमावे,
"सरना" सूरां री धरा शिवलिंग थापन करवावे !

वीरमदेव सो वीर कान्हङ को पूत कहलावे,
रणखेतां रे माय मुगलां में हाहाकार मचावे !

सूरापूरा री बातां खिलजी रे जद काना जावे,
खिलजी मन खुश होय वीरम नें दिल्ली बुलावे !

कर मनमें कळाप कान्हङदे सिरदारां ने बतावे,
ले कान्हङ आशिष विरमदे दिल्ली सिदावे !

करी खातरी जोर खिलजी मनमें हरषावे,
हद हूर रो रूप फिरोजां धिवङ कहलावे !

विरमदेव रे संग निकाह उणरो करणी चावे,
विरम मन हुयो उदास मुगल सूं छळीयो जावे !

करी समझ री बात बरात लावण रो केवे,
गढ़ पूग्यो जाळोर तुरक नें तुरन्त बतावे !

हिन्दवाणी सूरां रो गरब तूं गाळ नहीं पावे,
होय हिन्दु तुरकणी परणुं कुळ चव्हाण  लजावे !

दोहा:- मांमो लाजे भाटीयां,
                   कुळ लाजे चव्हाण,
जे हूं परणु तुरकणी,
                   जद पिछम उगे भाण !

ओ अपमान रो घूंट खिलजी भर नहीं पावे,
जद चढ्यो फौजा लेय जाळोर रोंदण नें आवे !

सिवाणा सिरदार सातळदेव नाम कहलावे,
कान्हङदे ले साथ मुगलां नें धूङ चटावे !

मिळ मरूधरा रा सिंग तुरकङा मार भगावे,
पांच बरस रे मांय मुगलीया मर खप जावे !

फिर फिर लावे फौज गढ़ जाळोर ढावण री चावे,
कान्हङ, सातळदेव, विरम  घमसाण मचावे !

जून तेरासो दस खिलजी जद खुद चढ़ आवे,
खिलजी जबर लगावे जोर सिवाणा घेरों लगावे !

केई सालां करीयो पङाव गढ़ में घुस ना पावे,
कपटी किनो कपट पाणी ने मीदम बणावे !

किले जळ भण्डार गऊ रो रगत मिळावे,
लिनो गढ़ सिवाणों घेर बारे कोई जा नहीं पावे !

जळ में गाय रो रगत पाणी कोई कयां पिवे,
जद सांतळ करी हूंकार हाका रो एलान करावे !

जलम भौम रे काज मरण रा मंगळ गावे,
सांतळ संग राठौङ रण में रजपूती दिखावे !

मारिया  मुगल अनेक आखिर रणखेत रेजावे,
गढ़ मचीयो रूदन जद जोर जौहर री चिता सजावे !

धिन धण सूरां री आज अगन में सिनान करावे,
गढ़ सिवाणो जीत खिलजी ओ एेलान करावे !

गढ़ घेरों जाळोर काफिर कोई बच नहीं पावे,
मुगल सेना मिळ जोर मारकाट हद मचावे !

गढ़ पहुंची जाळोर जैमिन्दर खण्डीत करवावे,
काना सुणीयो कान्हङ देव मुगलां रा गोडा टेकावे !

कर कपट कमालुदीन विशाळ सेना संग आवे,
गढ़ घेर लिनो जाळोर किला रे घेरों लगावे !

केई दिन किनो जोर गढ़ वो बङ नहीं पावे,
किनो घात विस्वास विको मुगलां मिळ जावे !

कान्हङ सूं वे नाराज तुरकां ने गुपत द्वार बतावे,
वीका रमणी विरांगना सहन तब कर ना पावे !

छतराणी दियो पति ने जहर हाथां विधवा बण जावे,
विक्रम संवत तेरह सौ अङसठ विरम नें राजा बणावे !

कान्हङ कियो विचार मुगलां सूं समर हो जावे,
खोल्या गढ़ किंवाङ रण में झूंझण जावे !

कान्हङ जबरो जोर मुगल मार हरषावे,
विरमदेव सो वीर मुगलां सुं लोङो लेवे !

हां छतरी वंश रा बीज सेना ने जोश बंधावे,
कर कर हिन्दू धरम ने याद वीर शमशीर चलावे !

मरणो मंगळ जाण जोधा जद जुंझार कहावे,
जुझीयां जबरा जोर अंत रणखेत रह जावे,
सनावर फिरोजां री धाय धङ सूं शीश मंगावे !

कर सुगन्धि लेप शीश नें जद दिल्ली
पहुचावे,
सजा शिश सोने रे थाळ फिरोजां पेश करावे !

कर मन ने उदास फिरोजा निरखणी चावे,
पङत फिरोजां निजर शिश पाछो फिर जावे !

कर मन में संताप फिरोजां विरम ने भतळावे,
दे दे दुहाई आज वीर ने फिरोजां यूं समझावे !

पूरब जलम री परीत सूरा विरम ने याद दिलावे,
शीश सूरा रो अटल अड़ीग पाछो फेर ना पावे !

दोहा:- तज तुरकाणी चाल,
                      हिन्दुआणी हुई हमे,
भो भो रा भरतार,
               शीश ना धूण रे सोनीगरा !

धिन धिन धरती रा लाल विरमदेव नाम कहावे,
मरूधरा रो पूत फिरोजां दाह संस्कार करावे !

दिनो हाथां दाग फिरोजां मन दुखङो ना मावे,
विरह अगन री झाळ तुरकणी सह नहीं पावे !
क्षत्राणियां सूरा जिणीया धिन मरूधर देश कहावे !!

लेखक- कवि रावजी

No comments:

Post a Comment