Wednesday, 23 December 2015

कनपटा मै भी दैणी  पड़े


हर बार अलफ़ाज़ ही काफी नही होते किसी को समझाने के लिए...
.
.
.
.
.

घणी वार
कनपटा मै भी दैणी  पड़े

No comments:

Post a Comment