Tuesday, 29 September 2015

बेटा दूध उजाळियो ,तू कट पड़ियो जुद्ध।

बेटा दूध उजाळियो ,तू कट पड़ियो जुद्ध।
नीर न आवै मो नयन ,पण थन आवै दूध।
(माँ कहती है बेटे तू मेरे दूध को मत लजाना ,युद्धमें पीठ मत दिखाना ,वीर की तरह मरना तेरे बलिदानपर मेरे आँखोंमें अश्रु नहीं पर हर्ष से मेरे स्तनों मेंदूध उमड़ेगा)

गिध्धणि और निःशंक भख ,जम्बुक राह म जाह।
पण धन रो किम पेखही ,नयन बिनठ्ठा नाह ।
( युद्ध में घायल पति के अंगों को गिद्ध खा रहे हैं,इस पर वीर पत्नी गिध्धणी से कहती है ,तू और सब अंग खाना पर मेरे पति के चक्षु छोड़ देना ताकि वो मुझे चिता पर चढ़ते देख सकें. )

इला न देणी आपणी ,हालरिया हुलराय।
पूत सिखावै पालनैं ,मरण बड़ाई माय।
(बेटे को झूला झुलाते हुए वीर माता कहती है पुत्र अपनी धरती जीते जी किसी को मत देना ,इस प्रकार वह बचपन की लोरी में ही वीरता पूर्वक मरने कामहत्त्व पुत्र को समझा देती है। )

No comments:

Post a Comment